Sanitizers के ठाठ

बारह साल पहले :-

बात उन दिनों की है जब हम एक इंडियन MNC में कार्यरत थे. हम, और हमारे colleague राहुल और फार्रुख खान DMRC की एक साईट पर किसी काम से गए थे. हम सब में सबसे ज्यादा updated और हाई फाई खान साहब ही रहते थे, तो हुआ यूँ की लंच का समय हुआ, हम सबने वहीं जून की गर्मी में साईट पर ही अपना अपना टिफिन निकाला. लेकिन पानी की बोतल सिर्फ मेरे पास ही थी, सो हमने और राहुल नें उसी बोतल से थोडा थोडा पानी लेकर जल्दी जल्दी नाम के लिए हाथ धो लिए. क्योकिं गर्मी थी और पीने के लिए भी पानी चाहिए था. और मेरी उस बोतल के तीन हिस्सेदार थे, साले अपनी बोतल साथ लेकर नहीं चल सकते थे.

ऐसे में हमने और राहुल नें हाथ धो कर फारूख भाई की तरफ देखा , मैंने बोतल उसकी तरफ बढाई. फारुख भाई बस बोतल देख कर मुस्करा भर दिए, बोले कुछ नहीं. उन्होंने अपना बैग खोला और उसमे से एक प्लास्टिक की दवानुमा बोतल निकाली जिसमे कुछ द्रव्य भरा हुआ था. फारुख हम दोनों की तरफ देखकर उस बोतल में से वो द्रव्य निकलकर अपने हाथ में डालने लगा और फिर दोनों हाथों को आपस में मलने लगा.

फारुख के ये सारे चोचले देखकर राहुल झल्ला गया और चिल्लाते हुए बोला – “ अबे यहाँ पानी पीने को नहीं है, और तुम साबुन लेकर आये हो. इतना पानी नहीं है अपने पास. रजनीश इसे बोतल मत देना, लगाए रहे साबुन हाथों में..”

उसकी उस बात का अपने हाई फाई फारुख भाई पर कोई असर नहीं हुआ और वो तो जैसे कोई जादूगर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते समय अपने दर्शकों की तरफ स्टेज की चारों दिशाओं में देखता है, वैसे ही हम दोनों की तरफ देखते हुए अपने हाथ मले जा रहे थे और मंद मंद मुस्करा रहे थे. हम दोनों नें देखा उसके हाथों से वो साबुननुमा द्रव्य आश्चर्यजनक रूप से अपने आप गायब होने लगा और देखते ही देखते उसके हाथ पहले जैसे सुख चुके थे. मेरा और राहुल मुह खुला खुला का खुला रह गया.

हम दोनों के हतप्रभ चेहरे देखकर फारुख जैसे विजयी मुस्कान से बोला – “#*$ वालों इसे sanitizer कहते हैं. इसमें साबुन और पानी की जरुरत नहीं पड़ती. अब खोलो टिफ़िन”. उस दिन sanitizer से मेरा पहला इंट्रोडक्शन हुआ. क्या बढ़िया चीज़ है ये sanitizer भी.

फ़ास्ट फॉरवर्ड बारह साल, कोरोना महामारी

जिस sanitizer को दुनिया में कुछ गिने चुने लोग ही जानते थे वो आज भयंकर डिमांड में था. उसके भाव भी बढे हुए थे. हालाँकि हमे पहली मुलाक़ात में ही उससे लव at फर्स्ट sight हो गया था फिर भी हम आज पहली बार उसे अपनाने जा रहे थे मेडिकल स्टोर. देखा लोगों के भारी भीड़ है लोग मास्क और sanitizer ही मांग रहे रहे थे. दूकानदार सबसे क्षमा मांग कर बार बार ये बता रहा था की इतने सारे sanitizer उसके पास अब नहीं बचे हैं. सिर्फ तीन बचे हैं बाकी दो तीन दिन बाद संभवतः आयेंगे. हमने देखा दूकान में सबसे ऊँची अलमारी पर वो तीन sanitizer अपना मस्तक गर्व से ऊँचा किये बैठे थे. मैं उनकी तरफ देखकर मुस्कराया, तो उनमे से दो नें तो जैसे किसी सुकुमारी राजपुत्री की तरह नाकभौं सिकोड़कर मुह फेर लिया. हाँ सबसे किनारे पर बैठा वो थोडा कम आकर्षक सफ़ेद कागज़ में लिपटा  sanitizer जरुर मेरी तरफ देखकर मुस्कराया. मैं फिर भी उन अन्य दो नीले और लाल रंग के sanitizer की तरफ आकर्षित हो रहा था. मैंने पूछा – “ बड़े ठाठ से बैठे हो?”

नीला वाला sanitizer मुझसे बिना नज़रे मिलाये आकाश की तरफ देखता हुआ बड़े घमंड से बोला-“ तुम वही हो ना जिसने मेरे परदादा को आज से बारह साल पहले नहीं पहचाना था?”

मै थोडा शर्मिंदा होते हुए बोला – “हाँ क्योकि उस समय तुम ..” मेरा इतना बोलते ही वो दोनों नीले और लाल sanitizer मुझे घूरते हुए लाल पीले हो गए और बोले –“ तमीज से बात करो”

मैंने बात संभाली और बोला –“ उस समय तो आप लोगों की महान race आयी ही आयी थी, इस कारण मुझे क्या तमाम लोगों को जानकारी नहीं थी आपके बारे में”.

“अबे जानकारी भर हो जाने से क्या तू हमे अफ्फोर्ड कर लेगा, क्या समझा है तूने” – अबकी लाल sanitizer दंभ से बोला.

मैंने बोला अरे पचास सौ रुपये में मुझे फ़र्क नहीं पड़ता, वो भी बात जब स्वास्थ्य की हो.

ऐसा सुनते ही वो दोनों sanitizer लोटपोट हो कर हसने लगे. लाल वाला हँसते हँसते बोला – “अरे एक सौ बीस रूपये का तो वो नकली वाला sanitizer है जो सबसे कोने में सादे कपड़ों में है. उसे दुकानदर नें अभी अभी शीशी में स्पिरिट भर के बनाया है, हम ब्रांडेड लोग तो छ सौ से ऊपर के हैं. तुम तो वही सस्ता वाला sanitizer ले जाओ. हमे अफ्फोर्ड नहीं कर पाओगे.”.

उनकी हंसी मुझे अच्छी नहीं लग रही थी. नीला वाला तो इतना लोटपोट हो गया की लुढ़कते हुए अलमारी से नीचे गिर गया.

ये देखकर दुकानदार चिल्लाते हुए बोला – “बाबूजी मुझसे बात करिए, उत्पादों को ऐसे ना छुएं, क्या चाहिए आपको”.

उसकी सच्चाई जानते हुए भी मेरे जैसे किफ़ायत से चलने वाले व्यक्ति के मुह से यही निकला – “वो सफ़ेद वाला sanitizer दे दो”.

यदि आपको यह लेख पसंद आया तो कृपया इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें , एवं नीचें दिए बटन से subscribe करें |

Speak Your Mind

*